प्रेम जो सच्चा था



पल दो पल रंग करके तुमने,

प्रिय कैसा अभिसार किया ।

सहसा विमुख हो गई फिर तुम,

ऐसा विस्मित प्यार किया ।


सहज प्रेम की सहज विवशता,

सहज निमंत्रण की परवशता,

तपते अधरों का रस पीकर,

मधुकर जीवन वार दिया ।


आलिंगन को तृप्ति ना मिली,

तृप्ति को अभिव्यक्ति ना मिली,

क्षण भंगुर से इस जीवन में ,

ये कैसा अतिभार लिया ।


असहज और चकित सा यौवन,

परिचित किंतु अपरिचित सा मन,

नर्म गुलाबी से कपोल पर,

अधरों ने अतिचार किया ।


विस्मय की यह कैसी सज्जा,

प्रेम पथिक से कैसी लज्जा,

मैं से तुम तक,तुम से हम तक

प्रेम उद्यान विहार किया ।

Comments

  1. bahut hi bhavpurna rachna hai sir...nice

    ReplyDelete
  2. मन भावुकता से भर जाये,
    और नहीं कुछ समझ में आये,
    तो ऐसी ही गति होती है...
    अच्छी अभिव्यक्ति है संयोग की

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

घायल शब्द

तुम्हारे नाम की स्याही

सिलवटें