मधुरेंद्र पाण्डे


मेरी बातें ख़्वाब नहीं हैं,

हर झुकना आदाब नहीं है,

अपनी तो आदत है कोशिश,

हार कभी भी मात नहीं है।
0 Responses

Post a Comment