Posts

Showing posts from December, 2012

मोहब्बत से आगे..कुछ औऱ..

Image
मोहब्बत बात करती है मेरी तन्हाईयों में, हमारे साथ रहती हैं कि हर रुसवाइयों में।
बहुत से ख्वाब उनींदें बहुत अलसाई सी रातें, बहुत से रतजगे थे और अधूरी सी रही बातें,
थे कुछ यूं अनकहे पैगाम उन अंगड़ाइयों में।
बहुत बिगड़ा रहा मौसम बहुत सी आंधियां आई, बहुत से रास्ते भटके कि जब भी हिचकियां आई,
अभी भी हसरतें शामिल उन्हीं परछाइयों में।

बहुत थी बेकरारी भी बहुत से दिल में अफसाने, बहुत थी बेखुदी भी छलके थे आंखों के पैमाने,
हज़ारों जुगनुओं ने भी छला बर्बादियों में।

इक सवाल..

Image
वो इक सवाल जो सदियों से कैद सीने में वो इक जवाब जो लम्हों के उस सफीने में बहुत दिनों से इक ख्याल बहुत गुमसुम है वो बेमज़ा सा सुलगता है मेरे सीने में।
ना आरजू ना कोई दर्द स्याह रातों में ना हसरतें ना जुस्तजू बची हैं आखों में फकत चुनिंदा ख्वाब के वो नुकीले टुकड़े लहूलुहान कर रहे हैं उन्हीं सांसों में
मैं बेइरादा,बेसबब सा उसी साहिल पर, वो ढूंढता हूं जो खो आया था सफीने में।

वही मिजाज़ वही दर्द वही अफसाने वही ख्याल जो हसरत से मिला अनजाने जो जिक्र उसके तग़ाफुल सामने आया उलझते ही गए रिश्ते थे हमको सुलझाने
मैं बेकरार मुसाफिर सा उन्हीं रिश्तों में तलाशता हूं सबब जो नहीं है जीने में।