Posts

Showing posts from April, 2011

मोबाइल

Image
अब भी करता हूं घर पे फोन मगर

पर वो आवाज़ अब नहीं आती

लगता है कितने ज़माने बीते

होता था रोज़ फोन पर अक्सर

मेरे कुछ बोलने से पहले ही

कहती थीं खुश रहो सदा बेटा

आज आफिस से देर लौटे हो

तुम को तो भूख लगी होगी बहुत

जाओ पहले ज़रा सा कुछ खा लो

फिर थोड़ी देर में बातें करना

सोचता हूं जो मां की बातों को

आंख में तैर सी जाती है नमी

आज मैं फिर से देर लौटा हूं

और हाथों में लेके बैठा हूं 

अपना तन्हा सा एक मोबाइल

मां तेरा फोन क्यों नहीं आता..?

प्रेम जो सच्चा था

Image
पल दो पल रंग करके तुमने,

प्रिय कैसा अभिसार किया ।

सहसा विमुख हो गई फिर तुम,

ऐसा विस्मित प्यार किया ।


सहज प्रेम की सहज विवशता,

सहज निमंत्रण की परवशता,

तपते अधरों का रस पीकर,

मधुकर जीवन वार दिया ।


आलिंगन को तृप्ति ना मिली,

तृप्ति को अभिव्यक्ति ना मिली,

क्षण भंगुर से इस जीवन में ,

ये कैसा अतिभार लिया ।


असहज और चकित सा यौवन,

परिचित किंतु अपरिचित सा मन,

नर्म गुलाबी से कपोल पर,

अधरों ने अतिचार किया ।


विस्मय की यह कैसी सज्जा,

प्रेम पथिक से कैसी लज्जा,

मैं से तुम तक,तुम से हम तक

प्रेम उद्यान विहार किया ।