बिखरे मोती..





तुमसे अच्छी तुम्हारी यादें हैं,


कम से कम साथ मेरे रहती हैं।


******


सोचता हूं मैं कुछ कहूं खुद से,

जाने क्यूं बेक़रार सा दिल है।


******


जाने क्यूं आइने ने ये पूछा,

तुम्हारे पास है बस इक चेहरा,

मैं लाजवाब रहा क्या कहता,

वक्त ने धुल दिया मेरा चेहरा।


******


तुम नहीं हो तो नहीं हो फिर भी,

एक उम्मीद पे ज़िन्दा हूं मैं।



******


मौत से है फासिला बस दो कदम,

ज़िंदगी बस दो कदम ही रह गई।


******


मधुर चांदनी यौवन तेरा,

चंद्र बना है दर्पण तेरा,

मुझको नेह-निमंत्रण देता,

स्मृति का आलिंगन तेरा।


******


हर सुबह रोज़ रात के नखरे,

नींद खुलती नहीं कभी मेरी।


******

पुराने मशवरों के साथ ज़िंदगी मेरी,

एक उम्मीद पर निकलती रही।



******


मोहब्बत मय नहीं तो और क्या है,

भला चंगा था दीवाना बनाया।


******


आज आंखों में ख़्वाब बोएंगे,

सुबह उठ्ठेगें उजाला लेकर।


******


तुम्हारे लफ़्ज़ों की चाशनी में,

ये इश्क अपना पिघल रहा है।


******


हर एक शख्स मेरा इम्तिहान लेता है,

वो सांस छीन के सारे जहान लेता है।


******


मेरा नसीब और तेरा वादा,

ये भरोसा भी क्या भरोसा है..?


******

आरजू मुद्दतों से बाकी है,

तुझसे होनी है मुलाकात अभी।


******


तुम्हारे साथ मेरी ज़िंदगी का हर लम्हा,

बहुत हसीन,बहुत गुनगुना सा लगता है।


******


तुम्हारे साथ मेरी ज़िंदगी का हर लम्हा,

बहुत हसीन बहुत बेमिसाल लगता है।


तुम्हीं तो हो मेरा उन्वान,आरजू सबकुछ,

तुम्हारे प्यार का लहज़ा कमाल लगता है।


******



देखिए वो किस अदा से होशियारी कर गए,

ख़त तो मुझको ही दिया, पर नाम ही डाला नहीं।

Comments

Popular posts from this blog

मोहब्बत सिर्फ नशा नहीं...तिलिस्म है...

दर्द जब हद गुज़र जाए तो क्या होता है...

अनजाना राही