मधुरेंद्र पाण्डे


तुम्हारे इश्क के लहज़े में चाशनी है बहुत...


हमारे पास महज़ आशिकी, और कुछ भी नहीं...
0 Responses

Post a Comment