जब मैं बन जाऊंगा सितारा इक दिन




उम्र की धूप खिल चुकी है अब

जीना जीना वो उतरी आंगन में

थोड़ी ही देर जवानी अब तो

शाम आगाज़ करने वाली है

धूप की जगह छांव ले लेगी

छांव की जगह अंधेरा होगा

उस अंधेरे में अनबुझी हसरत

जुगनू की तरह टिमटिमाएगी

चाहने वाले दिलासा देंगे

ये भी बोलेंगे कि ये हसरतें

अब उनकी हैं

मैं अंधेरे में कहीं दूर निकल जाऊंगा

हसरतें जुगनू से बदलेंगी लिबास

फिर जगह लेंगी सितारों की तरह

आंसू बन कर वो सितारे हरदम

आंख में उसकी झिलमाएंगे


Comments

Popular posts from this blog

मोहब्बत सिर्फ नशा नहीं...तिलिस्म है...

दर्द जब हद गुज़र जाए तो क्या होता है...

बिखरे मोती..