माज़ी जो बिखरा बिखरा है



उनींदी रात के साये..मुझे अक्सर सताते हैं


वो मेरे पास भी है, दूर भी..मुझको बताते हैं.


*********************************************

इश्क़ का नमक चख लिया तुमने...


इश्क़ की चाशनी में अब डूबो....


*********************************************

ख्वाब देखे थे आंख भर भर कर...


सुबह उट्ठे तो ख्वाब टूट गए...



आंख में चुभ रहीं हैं सब किरचें...



अपने मरहम भी सारा लूट गए..


*********************************************

साज़िशें साहिल पे थीं, लहरों से रखता क्या गिला,


एक नासमझी थी मेरी, दुश्मनों से गले मिला.


*********************************************

सांस दर सांस उम्र घटती रही..


तुम तज़ुर्बे की बात ले बैठे


*********************************************

इंतज़ार, अपनी इंतेहा तो बता..


मुंतज़िर हैं मेरी आंखे किसी सहर के लिए


*********************************************

ज़िंदगी मुझसे तू नाराज़ सही,


मुझको आदत है तेरे गुस्से की..


*********************************************

अब तो प्यादे भी सब सयाने हैं..


उनको भी हाथ आजमाने हैं..


*********************************************

सूखे पत्तों पे सरसराती हुई तेज़ हवा..


मानो माज़ी से कोई खेल रहा हो जैसे


*********************************************

तुमने मुझसे चुरा लिया मुझको..


सोचता हूं कि मुकदमा कर दूं..

Comments

Popular posts from this blog

घायल शब्द

तुम्हारे नाम की स्याही

सिलवटें