कटु सत्य है प्रेम का




तुम नदी हो

मुझे पता था कि इठलाओगी

कभी कभी यूं अकेले मे ही बलखाओगी

खुद से फुरसत मिले, समझ लेना

मुकद्दर क्या है..जान जाओगी

मैं समंदर ही सही खारा सा

मेरे सीने से लिपट जाओगी

जाओ बेफिक्र रहो

मेरे इंतज़ार से अब

मैं तुम्हारा था

तुम्हारा हूं

चाहे बीते कितने भी बरस

Comments

Popular posts from this blog

घायल शब्द

तुम्हारे नाम की स्याही

सिलवटें